द्रौपदी मुर्मू होंगी NDA की तरफ से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार

राजग ने जनजातीय समुदाय से आने वाली द्रौपदी मुर्मू को जहां अपना उम्मीदवार घोषित किया है। वहीं विपक्षी दलों ने संयुक्त रूप से यशवंत सिन्हा को अपना उम्मीदवार बनाया है। मुर्मू इस समय झारखंड की पूर्व राज्यपाल रह चुकी हैं। वहीं यशवंत सिन्हा झारखंड के मूल निवासी। इस तरह देखा जाए तो इस बार झारखंड देश को अगला राष्ट्रपति देने जा रहा है। द्रौपदी मुर्मू के नाम की घोषणा भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने एक प्रेस कांफ्रेंस में की।

इससे पहले उम्मीदवार तय करने के लिए भाजपा संसदीय दल की बैठक हुई जिसमें कई नामों पर गहन विचार विमर्श हुआ। नड्डा ने बताया कि हमने विपक्ष के साथ आम सहमति बनाने की कोशिश की लेकिन बात न बनने पर मंगलवार की बैठक में हमने अपना उम्मीदवार उतारने का फैसला किया। बैठक के दौरान करीब 20 नामों पर चर्चा हुई। जिसमें तय हुआ कि इस बार पूर्वी भारत से और किसी आदिवासी महिला को मौका दिया जाए। यदि द्रौपदी मुर्मू का चयन राष्ट्रपति पद के लिए होता है तो सर्वोच्च संवैधानिक पद पर पहुंचने वाली पहली आदिवासी महिला होंगी।

भाजपा की अगुवाई वाले राजग के पक्ष में अंकों के गणित को देखते हुए इनका राष्ट्रपति के रूप में चुना जाना लगभग तय है। मुर्मू मूल रूप से ओडिशा की रहने वाली हैं। मयूरभंज जिले में पैदा हुई द्रौपदी रायरंगपुर सीट से विधायक रही हैं। इससे पहले राष्ट्रपति चुनाव में विपक्षी दलों ने पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा को अपने संयुक्त उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतारने का एलान किया है।

कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, सपा, माकपा-भाकपा और राकांपा से लेकर द्रमुक समेत विपक्षी खेमे की लगभग सभी पार्टियों ने मंगलवार को हुई अपनी बैठक में पूर्व भाजपा नेता सिन्हा को आम सहमति से विपक्ष का राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाने का फैसला किया। इस फैसले के जरिये विपक्षी दलों ने भविष्य की राजनीतिक डगर पर अपनी एकजुटता और साझी रणनीति से भाजपा-राजग का सियासी मुकाबला करने का पहला संदेश देने की कोशिश की है। यशवंत सिन्हा विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर 27 जून को अपना नामांकन करेंगे।

Share and Enjoy !

0Shares
0

Leave a Reply

Your email address will not be published.

0Shares
0