उत्‍तराखंड के इन दो धामों में सिंगल यूज प्लास्टिक पर बैन

रुद्रप्रयाग: केदारनाथ वन्य जीव प्रभाग के उच्च हिमायली क्षेत्र में पड़ने वाले द्वितीय केदार मध्यमेश्वर, तृतीय केदार तुंगनाथ समेत अन्य मंदिर व बुग्यालों (मखमली घास के मैदान) में सिंगल यूज प्लास्टिक के प्रयोग को पूरी तरह प्रतिबंधित कर दिया गया है। यहां सिंगल यूज प्लास्टिक का प्रयोग करने वाले पर अर्थदंड लगेगा। इसी कड़ी में वन विभाग के कर्मचारी जगह-जगह पर्यटक व तीर्थ यात्रियों की नियमित चेकिंग कर रहे हैं।

तीर्थयात्री व पर्यटकों द्वारा गंदगी फैलाने के मामले सामने आए..

उच्च हिमालयी क्षेत्र में स्थित बुग्याल व मंदिरों में तीर्थयात्री व पर्यटकों द्वारा गंदगी फैलाने के मामले सामने आते रहे हैं।

इससे हिमालयी पर्यावरण के लिए गंभीर खतरा पैदा हो गया है।

इसे गंभीरता से लेते हुए केदारनाथ वन्य प्रभाग ने यहां बुग्याल व मंदिरों में सिंगल यूज प्लास्टिक (Single Use Plastic Ban) के प्रयोग पर सख्ती से रोक लगाने को कदम उठाने शुरू कर दिए हैं।

रुद्रप्रयाग जिले में स्थित चोपता, दुगलबिट्टा, द्वितीय केदार मध्यमेश्वर, तृतीय केदार तुंगनाथ व बुग्याली क्षेत्र में प्रत्येक वर्ष तीन लाख से अधिक पर्यटक व तीर्थ यात्री पहुंचते हैं और बड़ी मात्रा में सिंगल यूज प्लास्टिक यहीं छोड़ जाते हैं।
जबकि, यह पूरा क्षेत्र प्रतिबंधित वन क्षेत्र के अंतर्गत आता है। इसी को देखते हुए अब वन विभाग ने यह कदम उठाया है।

केदारनाथ वन प्रभाग के प्रभागीय वनाधिकारी आइएस सिंह नेगी ने बताया कि इस पूरे क्षेत्र में जगह-जगह चेकिंग के लिए कर्मचारी तैनात किए हैं।

साथ ही पर्यटक व तीर्थ यात्रियों को स्वच्छता के प्रति जागरूक भी किया जा रहा है।

Share and Enjoy !

0Shares
0

Leave a Reply

Your email address will not be published.

0Shares
0