आखिर यहाँ क्यों हुआ गैर हिंदुओं का प्रवेश वर्जित….?

उत्तराखंड की हिंदू युवा वाहिनी द्वारा मजहब के नाम पर एक अनोखी पहल का मामला प्रकाश में आने के बाद पूरे समाज में इस विषय को लेकर अलग-अलग चर्चाएं शुरू होने लग गई है। हिंदू युवा वाहिनी उत्तराखंड के अध्यक्ष गोविंद हिंदुस्तानी व महासचिव जीतू रंधावा ने देवालय व मंदिरों में गैर हिंदुओं के प्रवेश को वर्जित करने की अपील की है। हिंदू वाहिनी के इन दोनों नेताओं का मानना है कि गैर हिंदू मंदिर में प्रवेश कर सनातन धर्म के विपरीत कार्य करने का काम करता है। गैर हिंदू समाज को टारगेट करते हुए हिंदू वाहिनी ने यह कहा है जो मूर्ति पूजा में विश्वास नहीं रखता है उसको मंदिर व देवालय में प्रवेश का किसी भी रूप में अधिकार नहीं दिया जा सकता है। उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में करीब 150 मंदिरों में हिंदू वाहिनी द्वारा इस प्रकार की अपील के होल्डिंग लगाए गए हैं। हिंदू वाहिनी का कहना है कि वह हिंदू समाज को जागृत करने के लिए इस प्रकार के होल्डिंग पूरे उत्तराखंड में लगाएंगे। हिंदू वाहिनी का मानना है कि गैर हिंदू देवालय एवं मंदिर में आस्था और विश्वास के भाव से नहीं बल्कि मौज-मस्ती व सैर सपाटे के भाव से प्रवेश करता है। कुल मिलाकर के देव भूमि के नाम से पहचान रखने वाले उत्तराखंड में मंदिरों के आगे गैर हिंदुओं के प्रवेश वर्जित करने के होल्डिंग लगने की जरूरत क्यों पड़ी…..

Share and Enjoy !

0Shares
0

Leave a Reply

Your email address will not be published.

0Shares
0