नैनीताल में हेलीपैड नहीं… पर्यटन को बढ़ावा और पर्यटकों की सुविधाओं के लिए छह जगह बनेंगे हेलीपोर्ट

हल्द्वानी: नैनीताल जिले के पर्यटन को पंख देने के लिए हेलीसेवाओं के विस्तार पर काम किया जा रहा है। मुख्य सचिव के निर्देश के दौरे पर बाद हेलीपोर्ट की संभावनाओं को तराशा जा रहा है। इस विषय में डीएम धीराज सिंह गर्ब्याल ने समीक्षा बैठक ली। पर्यटकों को उत्तराखंड के जोडने के लिए सरकार द्वारा हेलीपोर्ट का निर्माण कराया जा रहा है। पर्यटकों को अपने गंतव्य तक जाने में देरी ना हो इसके लिए इस प्लान को तेजी से आगे बढ़ाया जा रहा है। बैठक में नैनीताल डीएम धीराज सिंह गर्ब्याल ने कहा कि नैनीताल जिला पर्यटन के लिहाज से बेहद अहम है।

हर साल लाखों की संख्या में सैलानी जिले के विभिन्न शहरों में पहुंचते हैं। पर्यटकों की संख्या को बढ़ाने के लिए उनकी सेवाओं में भी बढ़ोतरी की जाएगी। नैनीताल में 6 जगहों पर होलीपोर्ट बनाया जाएगा। हेलीपोर्ट मुक्तेश्वर, भवाली, रामनगर, भीमताल, बेलुवाखान और नौकुचियाताल में प्रस्तावित किया गया है। उन्होंने कहा कि भूखंड चिह्नित हो गए हैं और सर्वे का काम भी शुरू हो गया है। बैठक में डीएम गर्ब्याल ने भूमि से जुड़ी कार्रवाई जल्द करने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही बैठक में बैठक में हेलीपोर्ट सेवा के लिए जिले में चिह्नित स्थानों और उनसे संबंधित कार्रवाई को लेकर चर्चा हुई।

हेलीपैड और हेलीपोर्ट में अंतरहेलीपैड में एक हेलीकाप्टर उतरता है। वहां अन्य सुविधाएं नहीं होती। जबकि हेलीपोर्ट में पैसेंजर टर्मिनल बिल्डिंग, पेवमेंट, फायर ऑफिस बिल्डिंग, वाच टावर, यूजी टैंक, सेप्टिक टैंक, चेन लिंकिंग फैंसिंग और गेट आदि का निर्माण किया जाता है।

Share and Enjoy !

0Shares
0

Leave a Reply

Your email address will not be published.

0Shares
0