होलिका दहन के समय भूलकर भी न करें ये गलतियां…!

हिंदू धर्म में होली का त्योहार बहुत धूम-धाम से मनाया जाता है। लोग रंंग लगाकर एक दूसरे के साथ होली को सेलिब्रेट करते हैं। इस बार होलिका दहन का त्योहार 17 मार्च यानि आज मनाया जाएगा साथ ही रंगवाली होली 18 मार्च को मनाई जाएगी। वहीं रंग वाली होली से एक दिन पहले शाम को होलिका मां की पूजा की जाती है। लेकिन होलिका दहन के दौरान आपको कुछ गलतियां भूलकर भी नहीं करनी चाहिए। इन गलतियों को करने से व्यक्ति को जीवन में कई तरह ही परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

होलिका दहन के दौरान न करें ये गलतियां:

मान्यता है कि होलिका दहन की अग्नि को जलते हुए शरीर का प्रतीक माना जाता है। इसलिए किसी भी नवविवाहिता को ये अग्नि नहीं देखनी चाहिए। इसे अशुभ माना गया है. इससे उनके दांपत्य जीवन में समस्याएं शुरू हो सकती हैं। साथ ही घर- परिवार बिना बजह कलह भी शुरू हो सकती है।

होलिका दहन वाले दिन किसी भी व्यक्ति को पैसा उधार नहीं देने चाहिए। ऐसा करने से घर में बरकत नहीं होती। साथ ही दरिद्री छा जाती है और जहां दरिद्री छा जाती है, वहां से मां लक्ष्मी रूठ कर चलीं जातीं हैं। साथ ही इस दिन उधार लेना भी नहीं चाहिए।

मान्यता है कि माता-पिता की इकलौती संतान होने पर होलिका दहन की अग्नि को प्रज्जवलित करने से बचना चाहिए। क्योंकि इसे शुभ नहीं माना जाता। वहीं भाई और एक बहन होने पर होलिका की अग्नि को प्रज्जवलित किया जा सकता है।

मान्यता के अनुसार होलिका दहन के लिए भूलकर भी आम, पीपल और बरगद की लकड़ी का इस्तेमाल ना करें। इन्हें जलाने से नकारात्मकता आती है। होलिका दहन के लिए गूलर और अरंडी की लकड़ी शुभ मानी जाती है। ऐसा करने से सुख- समृद्धि का वास होता है।

होली के दिन माता- पिता का आशीर्वाद जरूर लेना चाहिए। साथ ही उन्हें कोई उपहार लाकर दें, ऐसा करने से श्रीकृष्ण प्रसन्न होते हैं और उनकी कृपा बनी रहती है। साथ ही इस दिन किसी भी महिला का भूलकर भी अपमान न करें। वरना आर्थिक नुकसान उठाना पड़ सकता है।

Share and Enjoy !

0Shares
0

Leave a Reply

Your email address will not be published.

0Shares
0