बदरीनाथ धाम के पुजारी समुदाय के मूल ग्राम में रामलीला आरंभ होने से पूर्व हनुमान ध्वज स्थापित

बसंत ऋतु में होली के समय भारत के चार धामों में से सबसे धाम श्री बद्रीनाथ के पुजारी समुदाय डिमरियों के मूल ग्राम डिम्मर में 24 मार्च से शुरू होने वाली श्री रामलीला ईस्ट पूजन व नाट्य मंचन का आज हनुमान ध्वज स्थापित कर प्रतीक स्वरूप शुभारंभ कर दिया गया है। पौराणिक मान्यता व पारंपरिक रीति-रिवाजों के चलते डिम्मर गांव में प्राचीन काल से यह रामलीला होती चली आ रही है। श्री बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने से पूर्व डिमरी पुजारियों द्वारा अपने मूल ग्राम डिमर में भगवान विष्णु की पूजा के निमित्त श्री राम का ईस्ट पूजन वह लीला आयोजित की जाती है। आज डिम्मर के चौरीं चौक में हनुमान ध्वज विधि-विधान व वेद मंत्रोच्चार के साथ स्थापित किया गया। हनुमान ध्वज स्थापित करने के लिए पूजा कुल पुरोहित दिवस्पति खंडूरी के द्वारा संपन्न की गई। इस मौके पर रामलीला मंडली डिमर के अध्यक्ष संजय डिमरी प्रभुकांत, मंत्री रविंद्र खंडूरी, कोषाध्यक्ष मुकेश डिमरी, भंडार नायक शोभित डिमरी, मोहन प्रसाद डिमरी, बुद्धि बल्लभ डिमरी, शैलेंद्र डिमरी, नरेश खंडूरी, गिरीश चंद्र डिमरी, जगदीश डिमरी, हृदय भूषण डिमरी, प्रेम प्रकाश डिमरी आदि मौजूद थे

Share and Enjoy !

0Shares
0

Leave a Reply

Your email address will not be published.

0Shares
0